मज़े मस्त गर्लफ्रेंड के साथ

0
Loading...

प्रेषक : सुखदीप …


हैल्लो दोस्तों, में भी आप सभी की तरह कामुकता डॉट कॉम का पिछले कुछ सालों नियमित पाठक हूँ। मेरा नाम सुखदीप है, मेरी उम्र 24 साल है, में चंडीगढ़ का रहने वाला हूँ, और हर दिन कसरत करने की वजह से मेरा बहुत बहुत गठीला है। दोस्तों में दिखने में बहुत अच्छा भी लगता हूँ और मेरे लंड का आकार सात इंच लम्बा है। दोस्तों आज में आप सभी को जो कहानी सुनाने जा रहा हूँ, वो आज से करीब एक साल पहले की सच्ची घटना है और यह घटना मेरी एक गर्लफ्रेंड के साथ घटी, जिसका नाम टीना था। दोस्तों वो मेरे घर के पास ही रहती थी और चुदाई से कुछ दिन पहले ही मैंने अपने प्यार का उसके सामने इजहार किया था, वो सिर्फ़ 20 साल की है और वर्जिन भी थी। दोस्तों उसका गोरा रंग, सुंदर चेहरा, लंबा कद, पतले होंठ, बड़े आकार के बूब्स, बड़ी ही मस्त सेक्सी गांड, टाईट चूत, बस उसका वो हुस्न मेरे ऊपर बिजलियाँ गिराता था। एक दिन जब वो किसी काम से मेरे घर आई, तब मैंने उसको पहली बार देखा और देखते ही में उस पर मर मिटा और रात को देर तक में बस मन ही मन सोचते हुए उसी को चोदने के बारे में सोचता रहता था।


फिर कुछ दिन तक ऐसा चलता रहा और बहुत दिनों के बाद वो दोबारा मेरे घर आ गई, लेकिन इस बार मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसको साफ साफ कह दिया कि टीना आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो, मुझे आपसे प्यार हो गया है। फिर बड़े ही शरारती अंदाज में टीना बोली कि अच्छा, तो कैसे आपको मुझसे प्यार हो गया? और यह सब कब हुआ? वैसे सभी लड़के एक जैसे होते है, कुछ दिनों के बाद प्यार ख़त्म जब कोई और मिल जाए तो वो उसके पीछे दौड़ने लगते। अब मैंने उसको कहा कि नहीं जान ऐसी कोई भी बात नहीं है जैसा तुम सोच रही हो में सच में तुमसे बहुत प्यार करता हूँ। अब वो मुस्कुराते हुए कहने लगी कि अच्छा, में सोचकर बताऊंगी और वो इतना कहकर मुस्कुराती हुई चली गई। फिर उसके बाद मेरी तड़प उसके लिए और भी ज्यादा बढ़ गई और अब में रात को उसके सपने देखने लगा था। फिर अचानक से एक दिन वो दोबारा से मेरे घर आ गई और मौका मिलते ही में उसके पास गया और मैंने अपना जवाब माँगा। अब उसने अपना सर हिलाकर हाँ का इशारा कर दिया, तब मेरी खुशी का कोई ठिकाना ही नहीं रहा में उस दिन में उसका वो जवाब सुनकर पागल हो चुका था। अब मुझे विश्वास ही नहीं हो रहा था कि सच में उसने मुझसे हाँ कह दिया है। फिर थोड़ी देर के बाद मुझे एक अच्छा मौका मिला और में उसके करीब जाकर खड़ा हो गया और उसके साथ हाथ मिलाने के लिए मैंने अपना एक हाथ आगे किया। अब उसने तुरंत मेरा हाथ पकड़ा और थोड़ी देर के बाद छुड़ा लिया। फिर उस दिन सिर्फ़ इतना ही हुआ, एक दो बार हाथ पकड़ा और उससे ज्यादा कुछ हम दोनों नहीं कर सके और ना ही हमे कोई ऐसा मौका मिला था, जिसका हम दोनों फायदा उठाते। फिर कुछ दिन ऐसे ही गुजरे और वो एक दिन दोबारा मेरे घर आ गई। दोस्तों उस दिन रविवार था, में हर रविवार को सुबह देर तक सोता हूँ, लेकिन वो जल्दी ही मेरे घर आ गई थी और उस समय भी में सो रहा था। अब घर पर सिर्फ़ माँ थी और उनके अलावा कोई नहीं था, में अपने कमरे में सो रहा था और मेरी माँ टी.वी पर खबरे सुन रही थी, में उस समय गहरी नींद में सो रहा था। तभी अचानक से एक बहुत ही प्यारी सी आवाज में मैंने अपना नाम सुना और आंखे खोली, तब मैंने देखा कि मेरे सामने टीना खड़ी थी।


में : अरे आप? इतनी सुबह और वो भी मेरे कमरे में, आज सूरज कहाँ से निकला है जनाब?
टीना : मैंने सोचा आज आपकी छुट्टी है, इसलिए में आपसे कुछ देर मिल आऊँ और आप है कि अभी तक सो रहे है, हमारे लिए अब क्या हुक्म है? मतलब हम जनाब का इंतजार करें या चले जाए, क्योंकि आंटी भी टी.वी देख रही है और में यहाँ अकेली क्या करूँगी?
में : हम जो है आपको कंपनी देने के लिए, लेकिन सिर्फ़ थोड़ी देर इंतजार करो, हम अभी तैयार हो जाते है और अब इस दौरान मैंने उसके हाथ पर बहुत सारे चुम्मे किए थे।
अब उसने कुछ भी नहीं कहा और ना ही मना किया बस मेरे सामने आराम से बैठी रही। फिर थोड़ी देर तक हम बातें करते रहे और उसके बाद मैंने उसको कहा क्या में आपको चुम्मा कर सकता हूँ? तब उसने कहा कि इतने तो कर लिए और अब इजाजत माँग रहे है, वाह क्या बात है आपकी?
में : जनाब इस बार हम आपके होंठो पर चुम्मा करना चाहते है, अगर आपको बुरा ना लगे और आपकी तरफ से इस काम की इजाजत हो तो?
टीना : में क्या कह सकती हूँ? क्योंकि मुझे बहुत शरम आती है, बस आपकी मर्ज़ी।
में : हैल्लो मेडम, जब आप यहाँ आया करो तो उस समय शरम को अपने घर पर छोड़कर आया करो, यहाँ हमारे साथ शरम का कोई काम नहीं है समझे।
टीना : हाँ ठीक है जो दिल चाहे कर लो, लेकिन सिर्फ़ ऊपर तक ही रहना है, अभी नीचे नहीं जाना।
में : अरे डरो नहीं, हमारा हक सिर्फ़ आपके पेट के ऊपर तक है, नीचे हमारा क्या काम? वैसे क्या आपको मुझसे डर लगता है?
टीना : जी लगता तो है, लेकिन बहुत कम मतलब 20% डर लगता है और 80% नहीं लगता है।
फिर उसके बाद में उठा और बाथरूम में चला गया और नहाधोकर तैयार होकर वापस आ गया। अब मैंने वापस आकर देखा कि वो उस समय मेरी माँ के साथ बैठी हुई थी। फिर जब में पूरी तरह से तैयार हो गया, तब में टी.वी वाले कमरे में चला गया और मैंने देखा कि वहां माँ नहीं थी, वो उस समय बाथरूम में थी। अब मैंने सही मौका देखते ही उसका पूरा फायदा उठाया और टीना को इशारा से कहा कि तुम ऊपर आ जाओ और फिर मैंने बाहर जाने का बहाना करके माँ से पूछा कि में बाहर जा रहा हूँ, कोई काम है क्या? तब माँ ने कहा कि नहीं कोई काम नहीं है और फिर में बहुत धीरे से बिना आवाज के ऊपर चढ़ गया और फिर थोड़ी देर के बाद टीना भी आ गई। अब माँ को यही पता था कि में बाहर गया हुआ हूँ और टीना अपने घर चली गई है, लेकिन उन्हें क्या पता था कि उनका बेटा ऊपर क्या गुल खिला रहा है? फिर ऊपर जाते ही मैंने टीना से कहा कि आओ और मुझसे गले लगे। अब उसने कहा कि नहीं मुझे शरम आती है। फिर मैंने उसको कहा कि देखो मैंने पहले भी कहा था ना कि जब मुझसे मिलने आया करो तब शरम को अपने घर रखकर आया करो। अब वो उठी और मेरे पास आ गई, उस समय मेरा लंड बिल्कुल ही सख़्त हो गया था।


फिर में थोड़ा आगे हुआ और उसको मैंने अपने गले से लगाकर उसके पूरे चेहरे पर चूमने प्यार करने लगा था। अब इससे थोड़ी देर के बाद उसको भी मज़ा आने लगा था, मैंने उसके कान में धीरे से कहा कि टीना क्या में आपके बूब्स को हाथ लगा सकता हूँ? क्योंकि मुझे आपके बूब्स बहुत अच्छे लगते है और में इनके साथ खेलना चाहता हूँ। फिर उसने कहा कि जो दिल कहे वही करो, मुझसे कुछ मत पूछो, क्योंकि मुझे शरम आती है और में कुछ नहीं कहूँगी, आपको जो करना है बस वही करो। अब मैंने कहा कि हाँ ठीक है जैसी आपकी मर्ज़ी, हम तो आपके हुक्म के गुलाम है। फिर उसके बाद मैंने उसको थोड़ी देर खड़े-खड़े ही चूमना शुरू किया और अपने गले से लगाए रखा साथ ही में अपना एक हाथ उसकी कमर पर फैरता रहा और अपने दूसरे हाथ से उसके बूब्स को आराम-आराम से मसलता रहा, जिसकी वजह से उसको ज्यादा से ज्यादा मज़ा मिले और वो जल्दी गरम हो जाए और आगे कुछ भी करने से मना ना करे। फिर मैंने उसको पलंग पर लेटा दिया और उसके साथ में भी लेट गया, अपना एक हाथ उसके बूब्स पर रखा और बड़े प्यार से मसलने लगा था। अब उसका व्यहवार देखने के लिए साथ-साथ बातें भी करता रहा, वो अभी तक शांत ही थी मेरे साथ मज़े करती रही और कुछ नहीं बोली।


फिर मैंने यह सब देखा और अपना हाथ उसकी कमीज के अंदर डालने लगा, तभी उसने तुरंत मेरा हाथ पकड़ा और मेरी तरफ देखकर कहा कि देखो सुखदीप मुझे तुम पर पूरा विश्वास है, लेकिन थोड़ा डर भी लगता है, हमसे कही कुछ गलत ना हो जाए, तुम जो चाहो करो में मना नहीं करूँगी, लेकिन ऐसा कुछ मत करना जिससे मेरा पूरा जीवन तबाह हो जाए और में किसी को मुँह दिखाने की भी ना रहूँ। अब में उसको बोला कि टीना अगर तुम्हे मेरे ऊपर विश्वास है तो सुनो में तुम्हें बहुत चाहता हूँ और तुमसे शादी करने की कोशिश भी करूँगा, लेकिन तुम किस्मत के फ़ैसले को तो मानती होना अगर किस्मत में हुआ तो हमारी शादी जरूर होगी, वरना नहीं और में तुम्हारे साथ अभी इसी समय सेक्स करना चाहता हूँ, क्योंकि अब मुझसे इंतजार नहीं होता है और रही जीवन तबाहा होने वाली बात तो आजकल हर दूसरी लड़की यह सब करती है, तुम कोई पहली लड़की नहीं हो और हम किसी को यह बात बता भी नहीं रहे है जो तुम्हारा जीवन तबाह हो जाएगी। अब टीना बोली कि वो तो ठीक है, लेकिन अगर कुछ गड़बड़ हो गई तो, मतलब बच्चा हो गया तो कैसे छुपाऊँगी? इसलिए डरती हूँ और दर्द भी होता है उससे भी डर लगता है, क्योंकि कुछ दिन पहले में अपनी चेहरी बहन की शादी में गई थी, तब उसने मुझे वो सभी बातें बताई थी कि पहली रात उसके साथ क्या क्या हुआ था?


अब मैंने उसको कहा कि हाँ दर्द तो होता है, लेकिन तुम चिंता मत करो में आराम से करूँगा, कुछ भी नहीं होगा और बच्चा ऐसे नहीं होता, जब तक वीर्य अंदर ना जाए तब तक कुछ नहीं होता है और ना ही किसी को ऐसे पता चलेगा, सही में तुम मेरा विश्वास करो। फिर इसके बाद वो मुस्कुराकर अपनी आंखे बंद करके आराम से जैसे थी वैसे ही लेटी रही। अब मुझे इशारा मिला कि उसकी तरफ से हाँ है, में मन ही मन में बहुत खुश था। फिर मैंने जल्दी से उसको चूमना शुरू कर दिया और मैंने उसकी कमीज को ऊपर कर दिया और तब मुझे पता चला कि उसने काले रंग की ब्रा पहनी हुई थी। फिर मैंने पूछा कि तुम्हारी ब्रा का आकार क्या है? तब वो बोली कि 34 इंच। फिर मैंने उसको उठाया और उसकी कमीज को उतार दिया और उसकी ब्रा को भी उतार दिया था। अब वो आधी नंगी थी, लेकिन में अभी तक कपड़ो में ही था, मैंने उसके बूब्स को बारी-बारी से चूसना शुरू कर दिया और अपना एक हाथ उसकी कमर पर फैरने लगा था और में अपना दूसरा हाथ उसकी चूत पर ले गया और आराम से उसकी चूत पर अपना एक हाथ फैरने लगा था।

Loading...


फिर जब मैंने अपना एक हाथ उसकी सलवार में डालना चाहा, तब उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा कि हाथ अंदर मत डालो, प्लीज मुझे सही में बहुत शरम आ रही है, क्योंकि आज ही मैंने चूत के बाल साफ किए है और कभी किसी को दिखाई भी नहीं है, इसलिए प्लीज तुम मेरी सलवार को मत उतारो। फिर मैंने उसको कहा कि ऐसे कैसे मज़ा आएगा? और अगर सलवार नहीं उतारी तो कैसे चोदूंगा? फिर मैंने उसको चूमते हुए इतना गरम कर दिया कि फिर मैंने कुछ देर बाद उसकी सलवार को उतारने की कोशिश कि तो उसने मुझे रोका नहीं बल्कि खुद ही अपने कूल्हों को ऊपर उठाकर सलवार उतारने में मेरी मदद कि। अब वो एकदम नंगी मेरे सामने थी, मैंने उसके पूरे गोरे चिकने जिस्म पर चूमना शुरू कर दिया और वो जोश में आहह्ह्ह उऊफफफ्फ कर रही थी। अब मुझे उसकी आवाज सुनकर बहुत मज़ा आ रहा था। फिर कुछ देर बाद उसने मुझसे कहा कि प्लीज सुखदीप जो कुछ भी करना आराम से करना, मुझे दर्द बिल्कुल अच्छा नहीं लगता और इसलिए आराम से करना और जितना हो सके मज़ा देना। फिर मैंने अपनी एक उंगली को उसकी चूत में ऊपर ही फैरनी शुरू कर दिया और उसको में चूमता भी रहा, कभी में उसके होंठो पर, कभी बूब्स, कभी निप्पल के मज़े ले रहा था और कभी कहीं, मतलब में उसके पूरे जिस्म पर चूमता रहा।


दोस्तों उसको चूमते हुए मैंने उसकी चूत पर अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया था, जिसकी वजह से अब उसको बहुत मज़ा आने लगा था और वो ज़ोर-ज़ोर से आवाजे निकालने लगी थी सुखदीप प्लीज और करो, बहुत मज़ा आ रहा है, मेरी चूत को और चाटो अपनी पूरी जीभ मेरी चूत में डाल दो प्लीज बहुत मज़ा आ रहा है। फिर थोड़ी देर के बाद जब महसूस हुआ कि वो गरम हो रही है, तब मैंने अपनी उंगली को बिल्कुल आराम से उसकी चूत में डाल दिया। अब टीना कहने लगी आह सुखदीप प्लीज आराम से करना मुझे बहुत डर लग रहा है, लेकिन मज़ा भी बहुत आ रहा है, वाह सच में बहुत अच्छा महसूस कर रही हूँ और आज तक ऐसा कभी मुझे महसूस नहीं हुआ ऊह्ह्ह्ह प्लीज थोड़ा आराम से अंदर करो, बहुत ही प्यार से प्लीज हाँ मज़ा आ रहा है ऊह्ह्ह्ह हाँ ऐसे ही ऊफ्फ्फ्फ़ ऐसा क्यों हो रहा है मेरे साथ? मेरे अंदर इतनी गरमी क्यों है? मेरे जिस्म में आग लगी हुई है आज तुम बुझा दो इस आग को मुझे बहुत ही गरमी लग रही है हाँ ऊह्ह्ह बहुत मज़ा बहुत आ रहा है। अब यह एक ही उंगली ठीक है, मुझे बड़ा मस्त मज़ा आ रहा है, नहीं प्लीज दूसरी अंदर मत करो ना, ऐसे ही अच्छा महसूस हो रहा है।

Loading...


फिर मैंने उसको कहा कि देखा टीना इस काम में कितना मस्त मज़ा है? और जनाब आपके कपड़े तो उतर गये, लेकिन हमारे कौन उतारेगा? अब टीना कहने लगी कि जो करना है खुद करो, मुझे बस मज़ा दो जितना हो सके और जल्दी करो, कहीं कोई आ ना जाए और हम पकड़े ना जाए प्लीज जल्दी करो सुखदीप। फिर मैंने अपने कपड़े उतार दिए और फिर उसके साथ लेट गया और उसको अपनी बाहों में जकड़ लिया और थोड़ा ज़ोर लगाकर उसको दबाया और फिर अपना काम शुरू कर दिया, मतलब कि अब में उसकी चूत में ऊँगली करने लगा और उसके साथ साथ में उसको चूमता और सहलाता भी रहा। फिर टीना बोली कि हाँ बहुत मज़ा आ रहा है, ऊहह्ह्ह सुखदीप करते जाओ करते जाओ ऊहह्ह्हह उउम्म अरे यह क्या सख़्त और गरम चीज मुझे मेरे पैरों में महसूस हो रही है? तब में उसको बोला कि यही तो है जिसका सारा काम है, जिसने आपको और मुझे बहुत मज़ा देना है, यही तो में तुम्हारी चूत के अंदर डालूंगा, लेकिन थोड़ा इसके सर पर तुम अपना हाथ फैरो इसको प्यार करो, उसके बाद यह तुम्हें अपना असली मज़ेदार काम दिखाएगा। फिर उसने मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ा और वो उसको सहलाने लगी थी, क्योंकि अब उसको ऐसा करते हुए बहुत अच्छा महसूस हो रहा था और मुझे ऐसे करवाते हुए बहुत अच्छा महसूस हो रहा था।


अब वो बहुत गरम हो गई थी, शायद अब वो अपने और मेरे बदन की गरमी को बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी। फिर टीना बोली कि ऊफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह्ह मुझे इतना मस्त मज़ा आ रहा है कि तुमने पहले क्यों नहीं बताया था कि इस काम में इतना मज़ा आता है? में तो कब से तुम्हें प्यार करती थी? और तुमने कहने में इतना समय लगा दिया, लेकिन जो हुआ अच्छा हुआ, क्योंकि सब्र का फल मीठा होता है सुना तो था आज देख भी रही हूँ। अब आज तुम मुझे बहुत मज़ा दो प्लीज मुझे प्यार करो, मुझे ठंडा कर दो मुझसे अब और बर्दाश्त नहीं हो रहा है। फिर मैंने उसको कहा कि मेरे लंड को अपने मुँह में डालकर तुम अब लोलीपोप की तरह चूसो, पहले तो उसने ऐसा करने से साफ मना किया, लेकिन जब मैंने उसको बड़े प्यार से समझाकर कहा कि मैंने भी तो तुम्हारी चूत को चाटा था, तब जाकर वो मान गई और फिर उसने मेरे लंड को चूमना शुरू कर दिया और फिर अपने मुँह में लेकर चूसने लगी। दोस्तों में किसी भी शब्दों में लिखकर बता नहीं सकता कि मुझे उस समय कितना मस्त मज़ा आ रहा था? फिर मैंने उसको 69 आसन में कर दिया और मैंने उसकी चूत को चूसना शुरू कर दिया, वो मेरा लंड चूस रही थी और में उसकी चूत को चाट रहा था।


फिर करीब दस मिनट तक चूसने के बाद उसकी चूत से रस निकलने लगा, मैंने उसका सारा रस चाट चाटकर साफ कर दिया। फिर उसके बाद मैंने टीना से कहा कि अब तुम लेट जाओ और उसको पलंग पर लेटाकर उसकी गांड के नीचे एक तकिया रख दिया, जिसकी वजह से उसकी चूत ऊपर की तरफ उठ गई। फिर मैंने उसके दोनों पैर ऊपर उठा दिए, तब उसने पूछा कि मेरे पैर क्यों उठा रहे हो? अब क्या इरादा है? ऐसे क्या होगा? तब मैंने उसको बोला कि में अब चुदाई करने जा रहा हूँ और आपको भी मेरा साथ देना है, मतलब अपने दर्द पर काबू करना है और चिल्लाना भी नहीं है, मेरी खातिर बर्दाश्त कर लो थोड़ी देर के बाद तुम्हे बहुत मज़ा मिलेगा ठीक है ना तुम तैयार हो ना। अब वो बोली कि हाँ में तैयार हूँ और तुम्हारा साथ भी दूंगी तुम बेफिक्र होकर अपना काम करो, बस मुझे मज़ा दो चाहे जैसे भी और तुम भी आराम से और प्यार से करने की कोशिश करना, जिसकी वजह से मुझे दर्द कम और मज़ा ज्यादा मिले ऐसा काम करना। फिर मैंने उसकी चूत पर अपना लंड ठीक निशाने पर रखा और आराम से अंदर करने लगा, तब मुझे महसूस हुआ कि उसकी चूत बहुत टाईट थी और उसको दर्द भी होना शुरू हो गया था।


अब वो बोली कि आराम से डालो, आराम से करो हाँ धीरे-धीरे प्यार से अंदर करो ऊफ्फ्फ्फ़ बहुत मज़ा आ रहा है, हाँ थोड़ा और करो हाँ आराम से आह्ह्ह्ह सुखदीप बहुत दर्द हो रहा है, लेकिन तुम रूको नहीं बस आराम-आराम से अंदर करते जाओ मुझे बहुत मज़ा आ रहा है, ऊऊऊहह माँ आह्ह्ह्ह आराम से हाँ ऐसे ही ऊहह्ह्ह और करो और अंदर करो ऊऊईईई माँ आह्ह्ह्ह बहुत दर्द हो रहा है, मेरे होंठो को चूसना शुरू करो बूब्स को रगड़ो प्लीज मुझे प्यार भी करो सुखदीप। अब अभी तक मेरा आधा लंड उसकी चूत के अंदर घुसा था और अब उसको दर्द भी बहुत हो रहा था और इसलिए मैंने वहीं तक ही अपना लंड अंदर रखा और धीरे-धीरे हिलाने लगा, जिसकी वजह से उसको मज़ा ज्यादा और दर्द कम महसूस हो। अब मेरा लंड अभी तक दो इंच ही अंदर गया था और ज्यादा अंदर नहीं जा रहा था, कोई चीज़ उसको अंदर जाने से रोक रही थी। अब में तुरंत समझ गया था कि यह उसकी चूत की सील है, जो मेरे लंड को और अंदर नहीं जाने दे रही है। फिर थोड़ी देर तक में अपना दो इंच लंड ही अंदर बाहर करता रहा और थोड़ी देर के बाद टीना बोली कि हाँ अब ठीक है, अब करो अंदर एक ही झटके से अंदर बाहर करो।


फिर उसने सोचा था कि पूरा अंदर जा चुका है इसलिए ऐसा कहा था और मैंने भी उसको नहीं बताया था कि अभी दो इंच ही अंदर है और पांच इंच बाहर है। अब बस उसका यही कहना था कि मैंने उसके होंठो पर अपने होंठ रखे और ज़ोरदार पूरी ताकत से एक झटका मार दिया जिसकी वजह से मेरा पूरा लंड अंदर घुस गया। फिर मेरा लंड अंदर जाते ही उसने एक जोरदार चीख मारी, लेकिन उसकी चीख मेरे मुँह में ही रही और उसकी आँखों से पानी बाहर निकल आया था। फिर में थोड़ी देर तक ऐसे ही लेटा रहा और जब मैंने देखा कि अब वो कुछ शांत हो चुकी है, तब मैंने उसके होंठ छोड़ दिए। अब उसने गुस्से से मेरी आँखों में देखा और रोने लगी थी, उसकी चूत से खून निकलना शुरू हो गया था। अब मैंने उसको बोला कि टीना मुझे माफ करना प्लीज रोना मत और तुमने खुद ही तो कहा था कि झटका मारकर अंदर बाहर करूँ और अब तुम ही रो रही हो। अब टीना बोली कि मैंने कहा था, लेकिन मुझे क्या पता था कि अभी तक बाहर भी बचा है? और जनाब ने भी बताने की तकलीफ भी महसूस नहीं कि, तुम बहुत बुरे हो। अब में कुछ नहीं करने दूंगी, बस आज पहली और आखरी बार कर लो जितना और जैसा करना है, इसके बाद कभी नहीं करेंगे।
दोस्तों एक बात है उस समय उसको दर्द बहुत हुआ था, ऐसा लगा जैसे किसी ने चाकू मार दिया हो और उसकी चूत को चीर डाला हो, लेकिन अब पहले से कुछ दर्द कम हो गया है। फिर वो कहने लगी तुम बहुत ज़ालिम हो, अब निकालो इसको बाहर थोड़ा दर्द कम होने दो, उसके बाद करना अभी कुछ मत करो। अब में उसको कहने लगा कि हाँ ठीक है, लेकिन अंदर ही रहने दो, में नहीं हिलूंगा और जब दर्द ख़त्म हो जाएगा तब दोबारा से फिर शुरू करेंगे। फिर वो बोली कि नहीं इतनी देर अंदर ही रखोगे तो में मर जाऊंगी, अब बस करो जैसे करना है में बर्दाश्त करती हूँ, लेकिन आराम से करना और अब जल्दी भी करो मुझे जाना भी है, हाँ ऐसे ही प्यार से करो मुझे बहुत मज़ा आ रहा है, क्या तुम पहले ऐसे नहीं कर सकते थे? गंदे बच्चे ऊह्ह्ह्ह हाँ अब ठीक है। अब मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा है अब और कितनी देर करना है? बस भी करो ना, में बहुत थक गई हूँ तुम दस मिनट से मेरे दोनों पैरों को ऊपर उठाकर मेरे ऊपर चढ़े हो, जनाब कोई एहसास भी है मेरा या नहीं। फिर मैंने उसको कहा कि बस जान थोड़ी सी देर और बस दो मिनट मेरा निकलने वाला है। अब वो बोली कि हाँ ठीक है कर लो, लेकिन सिर्फ़ दो मिनट है आअहह आराम से करो ना, सुखदीप आराम से करो प्लीज दर्द होता है, ऊओह्ह्ह में नाराज हो जाऊंगी सच्ची कहती हूँ।
अब मैंने उसको बोला कि जान आख़िर में मत रोको, मुझे मज़ा लेने दो में आख़िर में ऐसे ही चोदता हूँ। फिर वो बोली कि अच्छा, लेकिन थोड़ा सा तो धीरे करो सच में मुझे बहुत तेज दर्द हो रहा है, प्लीज इतना कहा भी नहीं मानोगे आअहह सच में बहुत दर्द हो रहा है ऊफफ्फ़ माँ आह्ह्ह में आज कहाँ फँस गई? अच्छी भली घर में बैठी थी पता नहीं क्या हुआ यहाँ आ गई तुमसे चुदवाने? सुखदीप आह्ह्ह और करो अब कुछ अच्छा लग रहा है हाँ करो ऐसे ही करते रहो। अब मुझे अच्छा लग रहा है और बहुत मज़ा भी आ रहा है अब ऊऊईई चुदवाना कितना अच्छा है? काश में तुम्हारी पत्नी होती तो हम रोजाना यह सब करते हाँ करो और तेज और तेज करो, ऊह्ह्ह सुखदीप आहह तुम्हारी सांस क्यों तेज आ रही है? फिर मैंने उसको बोला कि टीना अब मेरा निकलने वाला है दबाओ मुझे अपने हाथ मेरी कमर पर रख जितना ज़ोर है दबाओ, अपनी छाती से लगा लो आह्ह्ह में आ रहा हूँ। अब टीना बोली कि हाँ-हाँ ज़ोर से और तेज प्लीज अब मज़ा आ रहा है, मेरे अंदर कुछ हो रहा है जैसे पेशाब आ रहा हो करो ऊफ्फ्फ्फ़ अब मत रुकना ऊहहह्ह्ह कुछ निकल रहा है आअहहह ऊह्ह्ह यह क्या हो रहा है? रूको नहीं ऊहह्ह्ह ऊहह तुम झड़ गये ना? आह्ह्ह मुझे बहुत मस्त मज़ा आ रहा है चोदो मुझे बहुत मज़ा आ रहा है जान।


फिर हम दोनों का पानी एक साथ ही निकल गया और फिर एक दूसरे के साथ लिपटकर कुछ देर तक ऐसे ही लेटे रहे। फिर उसके बाद हम दोनों उठकर बैठ गये और थोड़ी देर तक बातें करते रहे और प्यार चूमना भी जारी रखा और फिर अपने कपड़े पहनकर चोरी से पहले वो और उसके बाद में बाहर चले गये। फिर उसके बाद हम दोनों को जब कभी भी कोई मौका मिला, तब हम दोनों ने चुदाई का भरपूर आनंद लिया और बहुत मज़े लिए।


दोस्तों यह था मेरी गर्लफ्रेंड के साथ उसकी पहली बार चुदाई की सच्ची कहानी उसकी कुंवारी चूत को चोदकर ठंडा करने का सच मुझे उम्मीद है कि सभी पढ़ने वालों को यह जरुर पसंद आएगी।


धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


hinde sex storesexy khaniya in hindisexsi stori in hindisex ki hindi kahanisexy free hindi storyhindi sex khaneyasexy stoies hindisex story hindi indiansexy hindi story commami ne muth marihindi saxy storynew sexy kahani hindi melatest new hindi sexy storysex story in hindi languagehindi sex story audio comsex stories for adults in hindihindi sex story free downloadsex story in hindi languagehindi sex story downloadhindi sexy stroessexy stiry in hindihindi sexy kahaniya newhindi sex story hindi sex storysexy syoryhindi font sex storiessexy stotiwww free hindi sex storysex kahani hindi fonthindi sexy stores in hindihindi sexy sortyhindi sexy story in hindi fonthindi sexy story in hindi languagehindi sex stories read onlinehindi sexy atorykamuktahindi sexy storieasexy story hinfihindi front sex storyhindi sexy storisenind ki goli dekar chodahindi sex story hindi languagesexy adult hindi storyhindisex storiehindi sexy soryhinde sex estoresexy stoies in hindikamuka storyhindi sxiyfree hindi sex story in hindisexi khaniya hindi mehindi sxe storysexy story in hindosex kahani hindi msex stories for adults in hindisax stori hindehindisex storiychodvani majahindi sexy sotorisex story of hindi languagewww sex kahaniyahindi storey sexysex khaniya in hindi fontsex story of hindi languagedownload sex story in hindisexi kahania in hindihinde sexe storehindi sex ki kahanihinde sax khanihindi se x storiessexy stioryhindi sexy istoriindian sex stories in hindi fontswww hindi sexi storysex story read in hindihindi sxiyhindi sex kahinisex khaniya in hindisexy story com hindisex stores hindi comsexy stoti